बृहस्पति ग्रह कमज़ोर होने के लक्षण, संकेत वा मज़बूत करने के सटीक उपाय।

Read more articles

बृहस्पति ग्रह कमज़ोर होने के लक्षण, संकेत वा मज़बूत करने के सटीक उपाय।।Jupiter ...

सौरमंडल के 9 ग्रहों में बृहस्पति ग्रह को मंत्री का दर्जा मिला हुआ है।यानी कि सलाहकार ,एक तरह का मैनेजमेंट।आज की पोस्ट में हम ब्रहस्पति ग्रह के कमज़ोर होने के लक्षण तथा मज़बूत करने के उपाय के बारे में बात करेंगे।
सूर्या ग्रह के उपाय पिछले पोस्ट में हमने चंद्रमा के उपाय इन दो ग्रहों के लक्षण तथा मज़बूत करने के उपाय बताये
थे इन्हें जरूर पढ़े।।
ब्रहस्पति यानि गुरु,गुरु मतलब शिक्षा,ज्ञान,सम्मान, नैतिकता और समाज की
 मजबूत व्यवस्था।

हमारे शास्त्रों में गुरु का स्थान ईश्वर से भी ऊपर माना गया है।बिना गुरु के ज्ञान के व्यक्ति दिशा हीन होते हैं। गुरू ही हमें अंधकार से प्रकाश की तरफ ले जाते हैं।

Watch video ...

जब आप स्कूल में जाते हैं तो आपको सिर्फ किताबी ज्ञान नहीं दिया जाता। आपको अनुशासन में रहना भी सिखाया जाता है इसके अलावा नैतिकता का पाठ भी पढ़ाया जाता है। क्या सही है क्या गलत है आप स्कूल में सिखाते हो। छोटो को प्यार करो बड़ो का आदर करो यह ज्ञान भी आपको आपका गुरु यानि टीचर सिखाता है।इसके अलावा और दूसरा कलात्मक प्रशिक्षण भी आपको वहां दिया जाता है। यानी आपके आगे आने वाले स्मपूर्ण जीवन की सुन्दर, व्यवस्थित,मजबूत। नीव 🏫 स्कूल में गुरु के संरक्षण में रखी जाती है। तो आप समझ सकते है। कि गुरु यानि ब्रहस्पति ग्रह की हमारे जीवन में क्या इंपोर्टेंस है क्या महत्व है।

 ब्रहस्पति ग्रह कमज़ोर होने के लक्षण.

 सभी ग्रहों का हमारे जीवन में प्रभाव पड़ता है।यहां हम आपको विशेष रूप से बताना चाहेंगे कि यदि ब्रहस्पति के साथ में आपका  चंद्रमा भीी कमज़ोर स्थिति है तो आपको ब्रहस्पति के उपायों का लाभ नहीं मिलेगा इस लिए एक बार कमज़ोर चन्द्रमा लक्षषण ओर उपाय जरूर अपनाएं। 
जैसा कि आप सभी जानते हैं कि ब्रहस्पति शिक्षा,ज्ञान, धर्म और नैतिकता का कारक ग्रह है तो यदि आपके जीवन में धन के साथ साथ सम्मान प्राप्त है तो आपको समझ जाना चाहिए कि आपका बहुत अच्छी स्थिति में है और आपको शुभ फल दे रहा है। ओर यदि बृहस्पति कमज़ोर है तो आप  कितनी भी कोशिश कर ले आपके जीवन में कुछ अच्छा नही होगा क्योंकि ब्रहस्पति के  सम्पर्क में आ कर कमज़ोर ग्रह भी मजबूत हो जाता है तो अगर मजबूत ग्रह ही कमज़ोर होगा तो आपके जीवन पर उसका क्या असर होगा आप समझ सकते हैं।तो जान लेते हैं कि कमज़ोर ब्रहस्पति के क्या लक्षण है।
  • गुरू से पीड़ित व्यक्ति ज्यादा पढ़ लिख नहीं पाते।उनकी शिक्षा अधूरी रह जाती है।
  • अगर पढ़ाई करते भी हैं तो बड़ी अड़चने आती हैं।
  • ऐसे जातक को विषय समझ में ही भी आते और उनका मन शिक्षा से हट जाता है। वो शिक्षा को व्यर्थ समझते हैं।
  • स्त्रियों का आदर नही करते।
  • उनके साथ दुर्व्यवहार करते हैं।
  • अपने से बड़े लोगों का वो निरादर करते हैं।
  • गुरू जनों का सम्मान नहीं करते है।
  • धन की लालसा उनमें जरूरत से ज्यादा होती है और वो धन इकट्ठा करने के लिए गलत रास्ते अपनाते हैं कि बस किसी तरह से भी अधिक से अधिक धन जोड़ ले।
  • शराब और नशे में धुत्त रहते हैं।जुआ खेलते हैं।
  • जितने अनैतिक कार्य हैं वो करते हैं।
  • घर में माता पिता से हमेशा झगड़ा रहता है। सिर्फ माता पिता ही नहीं बाकी परिवार जन से भी झगड़ा होता रहता है।
  • घमंडी स्वभाव के होते हैं।
  • धर्म में रूढ़ीवादी होते है धर्म में प्रेम नही होता बल्कि स्वार्थ के कारण पालन करते हैं कि हमें ये मिल जाए वो मिल जाए।
  • बेईमानी, धोकाधरी, लोगों का शोषण सब करते हैं।अपने से निम्न वर्ग के लोगों का हमेशा अपमान करते हैं।
  • जिन कन्याओं का ब्रहस्पति खराब होता है उनका विवाह ही नहीं होता अगर होता हैं तो दांपत्य जीवन सुखी नहीं रहता हैं।
  • यदि ब्रहस्पति के साथ कुंडली में राहु भी हैं तो असाध्य रोग हो सकते हैं।
  • लिवर कैंसर या कमज़ोर लिवर की कोई बिमारी हो सकती हैं।
  • अपने से बड़े लोगों का या ऊंचे पद पर जो लोग हैं उनका सहयोग इन्हें कभी नहीं मिलता।
  • धन का भी अभाव रहता हैं ओर यदि होता हैं तो व्यर्थ के कामों में खर्च कर देते हैं। दिखावा बहुत ज्यादा करते हैं। 
तो ये थे कमज़ोर ब्रहस्पति के कुछ लक्षण अब जान लेते हैं कि क्या उपाय करें जो ब्रहस्पति शुभ फल देने लगे।याद रखिए उपाय विश्वास ओर प्रेम से करिए तभी लाभ होगा।

ब्रहस्पति ग्रह को मज़बूत करने के उपाय. ।।

  • उपर्युक्त लक्षणों में से यदि कोई भी लक्षण आपके अंदर या आपके किसी मित्र या परिजन के अंदर बहुत लम्बे समय से हैं तो आप निम्न उपाय कर सकते हैं।
  • घर से शुरूआत कर बड़ो का सदैव आदर करे। यदि बहस की स्थिति बन रही है तो वहा से हट जाए हर वक्त जवाब देने के लिए तत्पर ना रहे।
  • गुरुजनों को हमेशा सम्मान दे।
  • गुरुवार के दिन बेसन से बनी मिठाई,केला,हल्दी,गुड इन में से कोई भी चीज किसी बुजूर्ग व्यक्ति को या पंडित को दान करें।
  • पीला रूमाल अपने पास रखें।
  • गरीब बच्चों को कॉपी किताब पेन पिंसिल आदि दे।
  • विष्णु भगवान की पूजा करे।
ॐ बृं बृहस्पतये नम:।
ॐ क्लीं बृहस्पतये नम:।
ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम:।
ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:।
ॐ गुं गुरवे नम:।
  • आप इन  में से किसी भी मंत्र का जाप चंदन की माला से करें।
  • विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करे लेकिन शुद्धता का पालन करे। मास मछली का सेवन न करें।
  • गुरुवार का व्रत करे।
  • वीरवार को गले में हल्दी की गांठ पीले धागे में बांध कर गले में पहने।
  • जिन कन्याओं की शादी नहीं होती उन्हे हल्दी की माला से रोज गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए।।
  • तांबे के लोटे में हल्दी डाल कर सूर्य देव को जेल अर्पित कर।
  • बेईमानी से धन इकट्ठा ना करें।
ये कुछ उपाय थे जिन्हें करने से आपकी कुंडली में ब्रहस्पति ग्रह मजबूत होंगे और आपके जीवन में सुख समृद्धि शांति सम्मान प्राप्त होगा लेकिन जो भी उपाय करे प्रसंचित हो कर करे। मन पर कोई बोझ लेकर न करे तभी आपको शुभ फल प्राप्त होगा।उम्मीद है ये पोस्ट आपके लिए उपयोगी होगी।
निम्न वर्ग का शोषण ना करें।

Post a Comment

0 Comments