मजदूरों की समस्याओं पर राजनीति।कोंग्रेस ने जो बस की लिस्ट भेजी उसमें निकले ऑटो, बाईक, प्राइवेट कार।


खबर है क़ि अब क्या खेलें चलो मजदूरों की समस्याओं पर ही राजनीति खेलें।
कोंग्रेस पार्टी की तरफ से कहा गया था क़ि हम पैदल चल कर अपने अपने घरो को जा रहे मजदूरों की मदत करना चाहते हैं लेकिन हमें योगी सरकार ऐसा करने नहीं दे रही।हम 1000 बसें यूपी में भेजना चाहते हैं।लेकिन हमे रोक जा रहा हैं।
जैसा क़ि विदित हो करोना महामारी के चलते पिछले कितने ही दिनों से मजदूर या तो पैदल चल कर या फिर अवैध रूप से दुगना तिगुना किराया दे कर अपने अपने घरो को लौटने पर मजबूर थे।
अब कोंग्रेस पार्टी 1000 बसे भेजना चाहती थी। तब CM योगी ने कहा क़ि आप मुझे 1000 बसों के नंबरो की लिस्ट भेज दीजिये उन्हें चेक कर के हम उन्हें चलवा देंगे।इस पर कोंग्रेस पार्टी की तरफ से जो लिस्ट भेजी गई।जब योगी सरकार ने उस लिस्ट के 452 नंबरो की जाँच करी तो देखिये क्या निकला।

  • 31 थ्री विह्लर -ऑटो
  • 59 स्कूल बस
  • 1 प्राइवेट कार
  • 1 वेन
  • 1 टाटा मैजिक
  • 1 एम्बुलेन्स
  • 1 ट्रक
  • 59 बसो का फिटनेस सर्टिफिकेट नहीं है।
  • 70 बसो का डेटा ही नहीं है।
यूपी राजस्थान बार्डर पर लघ-भग 400 बसो की लाईन लगी हुई हैं।कोंग्रेस के कार्यकर्ता जो वहाँ बसों को यूपी में प्रवेश ना किये जाने को ले कर धरने पर बैठे थे पुलिस ने उन्हें वहाँ से हटा दिया है।
ये बसें गरीब मजदूरों का कितना भला कर पायेगी आगे देखते हैं।

Post a Comment

0 Comments